कविता

क्या खूब बजाते हो कान्हा तुम बांसुरिया-Janmashtami Special Poem in Hindi

क्या खूब बजाते हो, कान्हा तुम बांसुरिया…2 तेरा संगीत सुनकर के, कमल भी खिल जाता हैं। मन मुग्ध होकर के, मोर नाचते हैं, और वृक्षों के ह्रदय से, आशु टपक जाता हैं। क्या खूब बजाते हो, कान्हा तुम बांसुरिया…2 इतनी प्यारी हैं तान, संग नदियाँ भी गाती हैं, गइया भी लगाकर कान, संगीत सुनती हैं, …

क्या खूब बजाते हो कान्हा तुम बांसुरिया-Janmashtami Special Poem in Hindi Read More »

मेरी आँखों में आँसू हैं…….Sad Poem In Hindi

मेरी आँखों में आँसू हैं, तेरा हर वक्त मशगूल रहने से, बहुत बेचैन रहते हैं हम, एक वक्त था, हर वक्त पास रहते थे, साथ रहते थे, तेरे पहलु में सो करके, सुनहरे खवाब बुनते थे…2 अब तो तेरी आहात को भी तरसते हैं हम || तेरा हर वक्त मशगूल रहने से, बहुत बेचैन रहते …

मेरी आँखों में आँसू हैं…….Sad Poem In Hindi Read More »

अच्छी लगती हैं…..Friendship Day Special Poem in Hindi

Dear Neha this Poem dedicated for you. अच्छी लगती हैं, वो बचपन की दोस्त, जो बड़े होने पर भी साथ निभाती हैं, जब साथ बैठकर बातें करते थे घंटों, अब कुछ नया हो तो, वो मोबाइल से बताती हैं, अच्छी लगती………… Read More:- प्यार बेशुमार करते हैं पापा। (Father’s Day special Poem) कभी वो परेशान …

अच्छी लगती हैं…..Friendship Day Special Poem in Hindi Read More »

प्यार बेशुमार करते हैं पापा। (Father’s Day special Poem)

उनके गुस्से में फ़िक्र छुपी होती हैं,उनके आंखों में प्यार छुपा होता हैं,ना ज्यादा जताते हैं , ना ज्यादा बताते हैं,लेकिन प्यार बेशुमार करते हैं पापा। जब शर्ट गिफ्ट दिया, तो बोले इसकी ज़रूरत नहीं ,बेकार में पैसे की बर्बादी हैं,जब जैकेट गिफ्ट दिया, तो कहा महंगा बहुत हैं मैं इससे सस्ते में लाता,लेकिन ज्यादा …

प्यार बेशुमार करते हैं पापा। (Father’s Day special Poem) Read More »

रूठा मेरा चाँद-Heart touching love poem in Hindi

रूठा मेरा चाँद आज शाम से चाँद घबराया चांदनी से रूठ कर आया है ! अँधेरी भरी रातों मैं थी कमी चाँद की खुद को छुपाये रखा है बादलो मै कहीं, तरस गयी आँखे चाँद के दीदार की खबर नहीं इसे किसी के इंतज़ार की, खामोस थे लब्ज़ कई सवाल थे आखों में सन्नाटे की …

रूठा मेरा चाँद-Heart touching love poem in Hindi Read More »

तुझसे तेरी एक हाँ मांगता हूं-कविता-Love Poem in Hindi

तुम्हे मैं सख्शियत-ए-खास बनाकर दिखाऊंगा दुनिया को, मैं तो खुदा से एक जहाँ मांगता हूं, दुनिया देखेगी मुझसे किये गए मेरे वायदों को, तेरे लिए ज़मी से उसका आसमां मांगता हूं । तू शरीक-ए-हयात बनकर शामिल हो इस जीवन में, इससे ज्यादा मैं तुमसे और क्या मांगता हु । तेरी आँखों की पुतलियों में जो …

तुझसे तेरी एक हाँ मांगता हूं-कविता-Love Poem in Hindi Read More »

ट्रैफिक एक समस्या-हिंदी कविता Poem in Hindi

ट्रैफिक एक समस्या हर सहर में बना हैं गाड़ी के पीछे गाड़ी एक लाइन से खड़ा है किसी को जाने की हैं जल्दी, किसी को देर हो रहा है, भरा पड़ा है चौरहा गाड़ियों की भीड़ से और आगे चौराहे पर गाड़ी ना मिल रहा हैं। ट्रैफिक एक समस्या……….………….! हर आदमी परेशान है, सबको मानसिक …

ट्रैफिक एक समस्या-हिंदी कविता Poem in Hindi Read More »

मेरा रिश्ता पुराना है-कविता Poem in Hindi

मेरे हर हाल का आलम, तेरे दिल का तराना है, तेरी मुस्कान होठों पे, मेरे दिल का सहारा है । तेरा वो ज़ुल्फ़ चेहरे पे, तेरी वो बोलती आंखे, तेरी हर एक अदाओ से मेरा रिश्ता पुराना है । तेरे वो बात की तहज़ीब, तेरा वो हंस के कुछ कहना, तेरी दो पल की वो …

मेरा रिश्ता पुराना है-कविता Poem in Hindi Read More »

ओस की बूंद सा इश्क-कविता love poem in Hindi

ओस की बूँद सा इश्क, एक पत्ते पर रुका हुआ , थोड़ी हवा चली तो फिसल जायेगा, थोड़ी धुप हुई तो सुख जायेगा, किसी ने छुआ तो बिखर जायेगा, फिर भी ना डर ना फ़िक्र, बस एक जुनून सा इश्क़………..ओस की बूँद सा इश्क। हज़ारों बूंदों की हुई बारिश बस एक बूंद रह गया था, …

ओस की बूंद सा इश्क-कविता love poem in Hindi Read More »

बॉस की डांट(Scolding of the Boss)-Poem in hindi

बॉस की डांट सुनकर , थोड़ी परेशान थी, थोड़ी घबराई थी, फिर सोचा कुछ तो सीख कर आई थी, आंसुओ को बहने से रोका, खुद को गिरने से रोका, गुस्से को काबू में रखकर , बड़ी मुश्किल से संभल पाई थी, बॉस की डांट सुनकर ….थोड़ी परेशान थी….फिर सोचा कुछ…….. हर वक्त गलत लगते थे …

बॉस की डांट(Scolding of the Boss)-Poem in hindi Read More »

माँ तू थोड़ी देर बाद समझ आती हैं-Mothers Day Poem in Hindi

माँ तू थोड़ी देर बाद समझ आती हैं, जब तू सुबह सुबह जगाती हैं, मेरे ना उठने पर आवाज़ पे आवाज़ लगती है, फिर भी देर से उठती हूं मैं, जब काम में देर हो जाती हैं, माँ तू …………… नाश्ता लेकर मेरे आगे पीछे, दो चार चक्कर लगती है, मुझे देर होगा बोल के …

माँ तू थोड़ी देर बाद समझ आती हैं-Mothers Day Poem in Hindi Read More »

पहली बार-कविता

आज सुबह को मैं बाग मे गया, वहाँ कि ताजगी देख कर कुछ देर तो वही रुका, मंन जेसे हरा भरा हुआ, दिल को यही लगने लगा, जब मै तनहा हु तब यही पर रहू! दूर कही नजर पड़ी खिला एक फूल दिखा फूल देख मानो जेसे नया जीवन खिला मै फूल पाने के लिए …

पहली बार-कविता Read More »